Aarasta Ho

 

 

 

 अारास्ता हो, ऐ मेरी जान,

कि बिछा है अब दस्तरख्यान,

जांच अपने को अारास्ता हो

खुदावन्द की जियाफत को |

 

खुदावन्द मैं हूँ खताकार

और हूँ हर बात में गुनहगार |

मैं बुरे पेड़ की डाली हूँ

और अछे फल से खाली हूँ |

 

तू अपने कामिल फजल से

अारास्तर्गी को मूझे दे |

बे-रिया गम गुनाहों का

और हक ईमान दे मुंजी का |

 

खुदावन्द मेरे तू हबीब,

मैं तेरा बन्दा हूँ गरीब ;

मैं भूखा-प्यासा आता हूँ

आसूदा हुआ चाहता हूँ |

 

मसीह ! निआमत तेरी हैं,

उसी से दिल की सेरी है

अारास्ता हो, एे मेरी जान,

देख बिछा है एक दस्तरख्यान | 

 

Aarasta Ho, Aae Meri Jaan,

Ki Bicha hai ab dastrkhyan,

jaanch apne ko aarasta ho

khudawand ki ziyafat ko

 

khudawand mein hun khatakaar

aur hun har baat mein gunahgaar

main bure paed ki daali hun

aur achche phal se khaali hun

 

Tu apne kaamil phazal se

aarastgi ko mujhe de

be-riya gam gunaho ka

aur hak imaan de munji ka

 

khudawand mere tu habib 

mein tera banda hun gareeb

Mein bhooka-pyaasa aata hun

aasooda huya chahta hun

 

Masih ! niyamat teri hai

ussi se dil ki seri hai

aarasta ho, aae meri jaan

dekh bicha hai ek dastrkhyan

 

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे