google.com, pub-3638331660160035, DIRECT, f08c47fec0942fa0
top of page

ABDI CHATTAN MUJHE LYRICS
अब्दी चट्टान मुझे (ROCK OF AGES)

अब्दी चट्टान मुझे, उस दरार में छिपने दे
खास वो पानी और वो खून, तेरे दिल से बहे जो
मेरे मर्ज का हो इलाज, पाप और मौत से दे शिफा।

1. मेरे हाथ का मेहनत सब, बिल्कुल है बेकार ए रब्ब
आँसु बहता रहें गर, दिल का जोश हो पुर असर
पाप का होगा न इलाज, तू ही मुझे दे नजात |

2. खाली हाथ मैं आता हूँ क्रूस तले मैं जाता हूँ
नंगे को पहना लिबास, बेखास पर कर फज़ल खास
चश्में पास मैं दौड़ता हूँ, धोता है सिर्फ तेरा खून ।

3. जब मैं लेता आखरी सांस, होते बन्द जब मेरे आंख
जब मैं जाता उस जगह, तख्त पर देखता शहनशाह
अब्दी चट्टान मुझे, उस दरार में छिपने दे ||

 

Abdi chattan mujhe, us daraar mein chhipne de

Khaas vo paani aur vo khoon, tere dil se bahe jo

Mere marj ka ho ilaaj, paap aur maut se de shifa

1. Mere haath ka mehenat sab, bilkul hai bekaar ae rabb

Aansoon beheta rahein gar, dil ka josh ho pur asar

Paap ka hoga na ilaaj, tu hi mujhe de najaat

2. Khaali haath main aata hoon kroos tale main jaata hoon

Nange ko pehena libaas, bekhaas par kar fazal khaas

Chashmein paas main daudta hoon, dhota hai sirf tera khoon

3. Jab main leta aakhri saans, hote band jab mere aankh

Jab main jaata us jagah, takht par dekhta shehenshah

Abdi chattan mujhe, us daraar mein chhipne de

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे

bottom of page