google.com, pub-3638331660160035, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

Agni Jala Mujhmein Agni Jala LYRICS
अग्नि जला मुझमें अग्नि जला

अग्नि जला मुझमें अग्नि जला,

स्वर्गीय राजा मुझमें अग्नि जला।


2. दुनिया से अन्धकार को मिटाने को, स्वर्गीय अग्नि मुझमें जला।


3. जो आग मूसा ने देखी एक बार, झाड़ी के बीच में जलते हुए।

4. महिमा की आग तू मुझमें जला, मन की मलिनता जल जाए।

5. पिन्तेकुस्त के दिन में भेजी गई, फटती हुई आग की जीभें जैसे।


6. मैं और जो कुछ मेरा अपना है, वेदी में अर्पण करता हूँ मैं।।

Agni jala mujhmein agni jala,

Swargiya raja mujhmein agni jala

2. Duniya se andhkar ko mitane ko,

swargiya agni mujhme jala

3. Jo aag moosa ne dekhi ek baar,

jhaadi ke beech mein jalte hue

4. Mahima ki aag tu mujhmein jala,

man ki malinta jal jaye

5. Pintekust ke din mein bheji gayi,

fat ti hui aag ki jeebhein jaise

6. Main aur jo kuch mera apna hai,

vedi mein arpan karta hoon main

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे