Kab Tak Khuda Mere Kab Tak

 

 

 

कब तक खुदा मेरे कब तक

कब तक खुदा मेरे कब तक
ए खुदा मुझ पे अपना कहर न दिखा 
अब तो मुझ पे रहें कर की मै मेर चला
मुझ को दे दे शिफा

मुझ को दे दे शिफा
बेकरारी मेरी जाँ की बढती रहेगी 
कब तक खुदा मेरे कब तक

कब तक खुदा मेरे कब तक

 

ए खुदावंद तू अब मेरी जां को छुडा 
अपनी रहमत की खातिर से मुझ को बचा
मर के कैसे करूँगा तुझे याद मै 
कब्र में शुक्र कैसे करूँगा अदा 
मै तो करहाते करहाते थक ही गया 
और कब तक खुदा मेरे कब तक 

 

मेरे बिस्तर पे है आंसुओं की नमी
मेरी आँखे भी रो रो के जाती रही
ए मेरे दुश्मनों तूम ये सुनलो ज़रा 
मेरे मालिक ने सुनली है मेरी दुआ
है वो दुश्मन मेरे बेकरार और शर्मिंदा 
रहमत खुदा तेरी रहमत

रहमत खुदा तेरी रहमत

Kab tak khuda mera kabtak

Kab tak khuda mera kabtak

aye khuda mujh pe apna keher na dikha

ab to mujh pe rehem ker ki mai mer chala

Mujh ko de de shifa

Mujh ko de de shifa

Bekarari meri jaan ki badhti rahegi

kab tak khuda mere kab tak

kab tak khuda mere kab tak

 

 

 

Aye khudawand tu ab meri jaan ko chudaa

apni rehmat ki khatir se mujh ko bacha

mar ke kaise karunga tujhe yaad main

kabr mai shukr kaise karunga adaa

main to karhate karhate thak hi gaya

aur kab tak khuda mere kab tak

 

 

 

Mere bister pe hai aansuon ki nami

meri aankhe bhi ro ro ke jati rahin

aye mere dushmano tum ye sunlo zara

mere malik ne sunli hai meri dua

hai wo dushman mere bekaraar aur sharminda

rehmat khuda teri rehmat

rehmat khuda teri rehmat

 

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे