Khush Ho Khudawand Aaya Hai

 

 

 

खुश हो खुदावंद आया है,

उसको क़ुबूल कर ले

ऐ कुल जहां, हाँ हर एक दिल 

मसीह को जगह दे |

 

खुश हो मसीह अब बादशाह है 

सब आदमी हर ज़ुबान

समुन्दर भी, पहाड़, मैदान 

गीत गाए खुश इल्हान |

 

दुःख और तकलीफ वह करता दूर,

हटाता है गुनाह :

तारीकी में वह देता नूर 

और बरकत बेश-बहा |

 

रास्तबाज़ी और सच्चाई से 

वह राज फैलाता है 

और अपनी कुल हुकूमत में 

प्यार दिखाता है |

 

Khush Ho Khudawand Aaya Hai,

Usko Kubool Kar Le,

Ai Kul Jahan, Haan Har Ek Dil

Masih Ko Jagah De

 

 

 

Khush Ho Masih Ab Badshaah Hai

Sab Aadmi Har Zubaan

Samundar Bhi, Pahad, Maidaan

Geet Gaaye Khush ilhaan

 

 

 

Dukh Aur Takleef Veh Karta Door

Hataata Hai Gunaah

Taariki Mein Veh Deta Noor

Aur Barkat Besh-Baha 

 

 

 

Rastbaazi Aur Sachchai Se

Veh Raaz Phailaata Hai

Aur Apni Kul Hukumat Mein

Pyaar Dikhata Hai 

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे