Kuch Kamti Na Mujh Ko Hogi 

कुछ कमती न मुझ को होगी ,

मेरा यीशु मसीह है गड़रिया ।

 

मुझे हरी हरी घास चराता, और निर्मल पानी पिलाता,

मुझे भूख पियास न होगी, मेरा यीशु मसीह है गड़रिया |

 

वह मेरी जान बचाता, और सच्ची राह दिखाता

इस राह में थकन न होगी, मेरा यीशु मसीह है गड़रिया |

 

मृत्यु का भय जब छाये, और मेरी जान दु:ख पाये,

तेरी छड़ी से हिम्मत होगी, मेरा यीशु मसीह है गड़रिया ।

 

मेरे दुश्मन को तू हरावे, मेरा दस्तरख्वान बिछावे,

खुशी उसको कुछ भी न होगी, मेरा यीशु मसीह है गड़रिया |

 

मेरे सर पर तेल झलकता , और प्याला मेरा छलकता,

तेरे घर में खुशी तब होगी , मेरा यीशु मसीह है गड़रिया ।

 

Kuch Kamati Na Mujh Ko Hogi ,

Meraa Yeeshu Maseeh Hai Gadriyaa

 

Mujhe Haree Haree Ghaas Charaataa,

Aur Nirmal Paanee Pilaataa,

Mujhe Bhookh Piyaas Na Hogee,

Meraa Yeeshu Maseeh Hai Gadriyaa

 

Vah Meree Jaan Bachaataa,

Aur Sachchee Raah Dikhaataa

Is Raah Men Thakan Na Hogee,

Meraa Yeeshu Maseeh Hai Gadriyaa

 

Mrityu Kaa Bhay Jab Chhaaye,

Aur Meree Jaan Duahkh Paaye,

Teree Chhadee Se Himmat Hogee,

Meraa Yeeshu Maseeh Hai Gadriyaa

 

Mere Dushman Ko Too Haraave,

Meraa Dastarakhvaan Bichhaave,

Khushee Usako Kuchh Bhee Na Hogee,

Meraa Yeeshu Maseeh Hai Gadriyaa

 

Mere Sar Par Tel Jhalakataa ,

Aur Pyaalaa Meraa Chhalakataa,

Tere Ghar Men Khushee Tab Hogee ,

Meraa Yeeshu Maseeh Hai Gadriyaa .

 

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे