Param Pita Ki Hum

 

 

 

परम पिता की हम स्तुति गायें,

वही है जो बचाता हमें,

सारे पापों को करता क्षमा,

सारे रोगों को करता चंगा |

 

धन्यवाद दें उसके आंगनो में,

आनंद से आएं उसके चरनों में,

संग गीत गा कर ख़ुशी से

मुक्ति की चट्टान की जय ललकारें |

 

वही हमारा है परम पिता,

तरस खता है सर्व सदा,

पूरब से पश्चिम है जितनी दूर 

उतनी ही दूर किये हमारे कुसूर |

 

माँ की तरह उसने दी, तसल्ली 

दुनिया के खतरों में छोड़ा नहीं,

खालिस दूध कलाम का दिया 

और दी हमेशा की ज़िन्दगी |

 

चरवाहे की मानिंद ढूंढा उसने,

पापों की कीच से निकाला हमें,

हम को बचाने को जान अपनी दी 

ताकि हाथ में हम उसके रहें |

 

घोंसले को बार-बार तोड़कर उसने 

चाहा की सीखें हम उड़ना उससे,

परों पर उठाया उकाब की तरह 

ताकि हम को चोट न लगें|

 

Param Pita ki Hum Stuti Gaye

Wahi Hai Jo Bachata Hamein

Saare Paapon Ko Karta Kshama

Saare Rogon Ko Karta Changa 

 

 

Dhanyawad De Uske Aanganon Mein

Anand Se Aayein Uske Charnon Mein

Sang Geet Gaa Kar Khushi Se

Mukti Ki Chattan Ki Jai Lalkarein

 

 

Wahi Hamara Hai Param Pita

Taras Khata Hai Sarv Sada

Poorab Se Pashchim Hai Jitni Door

Utni Hi Door Kiye Hamare Kusoor

 

 

Maa Ki Tarah Usne Di, Tasalli

Duniya Ke Khatron Mein Choda Nahi

Khalis Doodh Kalaam Ka Diya

Aur Di Hamesha Ki Zindagi

 

 

Charwahe Ki Manind Dhoonda Usne

Papon ki Kheench Se Nikaala Hamein

Ham Ko Bachane Ko Jaan Apni Di

Taaki Haath Mein Ham Uske Rahein

 

 

Ghosle Ko Baar-Baar Todkar Usne

Chaha Ki Seekhein Ham Udna Usse

Paron Par Uthaya Ukaab Ki Tarah 

Taaki Ham Ko Chot Na Lagein

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे