Parmeshwar Sharansthan Aur Bal Hamara Hai

 

 

 

परमेश्वर शरणस्थान और बल हमारा है

सहायक संकट में जो सहज ही मिलता है

 

इसलिए कोई दर नहीं है चाहे पृथ्वी उलट जाए

और सरे पर्वत चाहे डोलकर बीच समुन्दर जा पड़े |

 

चाहे गरजे भी समुद्र, उसका जल जो फेनाए

और उसके विस्तार के कारण सारे पर्वत काँप उठें |

 

एक नदी की नहरों से परमप्रधान के नगर में 

जो है, निवास यहोवा का, उसमें आनंद होता है |

 

परमेश्वर उसके बीच में है वह न कभी भी टलेगा,

पौ फटते  ही प्रभु उसकी नित्ये सहायता करेगा |

 

जाति-जाति गरज उठें, राज्य, डगमगा उठे

पृथ्वी तक पिघल जाए ईशवर जब भी बोल उठे |

 

सेनाओं का जो यहोवा संग हमारे है सदा 

याकूब का अनंत परमेश्वर गढ़ हमारा है ऊँचा | 

 

Parmeshwar Sharansthan Aur Bal Hamara Hai

Sahayak Sankat Mein Jo Sehej Hi Milta Hai

 

 

 

Isliye Koi Dar Nahi Hai Chahe Prithvi Ulat Jaye

Aur Saare PArvat Chahe Dolkar Beech Samundar Ja Pade

 

 

 

Chaahe Garje Bhi Samundra, Uska Jal Jo Fenaye

Aur Uske Vistaar Ke Karan Sare Parvat Kanp Uthey

 

 

 

Ek Nadi Ki Nehron Se ParamPradhan Ke Nagar Mein

Jo Hai, Niwas Yehova Ka, Usme Anand Hota Hai

 

 

Parmeshwar Uske Beech Mein Hai Veh Na Kabhi Bhi Talega.

Pao Phat te Hi Prabhu Uski Nitye Sahayta Karega

 

 

Jati-Jati Garaj Uthey, Rajya, Dagmaga Uthe

Prithvi Tak Pighal Jaye Ishvar Jab Bhi Bhol Uthey

 

 

Senao Ka Jo Yehova Sang Hamare Hai Sada

Yakoob Ka Anant Parmeshwar Gad Hamara Hai Uncha

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे