Prashansa Howe Prabhu Yeshu Ki

 

 

 

प्रभु महान
विचारों कार्य तेरे,
कितने अद्भुत 
जो तूने बनाए 
देखू तारे 
सुनू गर्जन भयंकर,
समर्थ तेरी 
सारे भूमण्डल पर |

 

को : प्रशंसा होवे प्रभु येशु की,
कितना महान (२)
 प्रशंसा होवे प्रभु येशु की,
कितना महान (२)

 

२. वन के बीच में 
तराई मध्य विचारु
मधुर संगीत
मैं चिड़ियों का सुनूं
पहाड़ विशाल 
से जब मैं नीचे देखूँ
झरने बहते 
लगती शीतल वायु |

 

३. जब सोचता हु 
कि पिता अपना पुत्र,
मरने भेजा
है वर्णन से अपार 
कि क्रूस पर उसने 
मेरे पाप सब लेकर,
रक्त बहाया,
कि मेरा हो उद्धार |

 

४. मसीह आवेगा 
शब्द तुरही का होगा,
मुझे लेगा
जहां आनंद महान,
मैं झुकूंगा 
साथ आदर भक्ति दीनता,
और गाऊंगा 
प्रभु कितना महान |

 

Prabhu Mahan

Vicharu Karya Tere,

Kitne Adbhut

Jo Tune Banaye 

Dekhu Taare

Sunu Garjan Bhayankar,

Samarth Teri 

Sare Bhoomandal Par 

 

Chorus : Prashansa Howe Prabhu Yeshu Ki,

Kitna Mahan (2)

Prashansa Howe Prabhu Yeshu Ki,

Kitna Mahan, Kitna Mahan

 

2. Van Ke Bich Main 

Tarai Madhya Vichru,

Madhur Sangeet

Main Chidiyo Ka Suno,

Pahaad Vishaal

Se Jab Main Neeche Dekhu,

Jharne Behte

Lagti Sheetal Vaayu

 

3. Jab Sochta Hu 

Ki Pita Apna Putra

Marne Bheja 

Hai Varnan Se Apaar,

Ki Kroos Par Usne

Mere Paap Sab Lekar,

Rakt Bahaya

Ki Mera Ho Uddhar

 

4. Masih Aawega

Shabd Turhi Ka Hoga,

Mujhe Lega

Jahan Anand Mahan,

Main Jhukunga

Saath Adar Bhakti Deenta,

Aur Gaaunga 

Prabhu Kitna Mahaan 

 

 

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे