google.com, pub-3638331660160035, DIRECT, f08c47fec0942fa0
 

Woh Pyaari Saleeb

१. वह प्यारी सलीब मुझ को दीख पड़ती है 

एक पहाड़ी पर जो खड़ी थी 

कि मसीह-ए-मस्लूब ने नदामत उठा 

गुनहगारो कि खातिर जान दी |

 

पास न छोड़ूंगा प्यारी सलीब 

जब तक दुनिया में होगा कयाम 

लिपटा रहूँगा में उसी से,

कि मस्लूब में है अब्दी आराम |

 

२.आह ! वह प्यारी सलीब, जिसकी होती तहक़ीर 

है मुझ को बेहद दिल पजीर 

कि ख़ुदा के मेहबूब उस जलाली मसीह

ने सहा दुःख बे नजीर |

 

३. मुझे प्यारी सलीब में, गो लहु-लुहान 

नज़र आती है खूब-सुरती

कि ख़ुदा के मसीह ने कफारा दिया

ता मिले मुझे ज़िन्दगी |

 

४. मैं उस प्यारी सलीब का रूह वफादार 

सिपाही हमेशा ज़रूर 

जब तक मेरा मसीह न करेगा मुझे 

अपने अब्दी जलाल में मंज़ूर |

 

1. Woh Pyaari Saleeb Mujh Ko Dikh Padti Hai

Ek Pahadi Par Jo Khadi Thi 

Ki Masih-Ye-Maslub Ne Nadamat Utha

Gunahgaaro Ki Khaatir Jaan Di

 

Paas Na Chordunga Pyaari Saleeb 

Jab Tak Duniya Mei Hoga Kayaam

Lipta Rahunga Mei Usi se

Ki Maslub Mei Hai Abdi Araam

 

2. Aah ! Woh Pyaari Saleeb, Jiski Hoti Tehkir

Hai Mujh Ko Behed Dil Pajeer

Ki Khuda Ke Mehboob Uss Jalaali Masih

Ne Saha Dukh Be Najeer

 

3. Mujhe Pyaari Saleeb Mai, Gao Lahu-Luhaan

Nazar Aati Hai Khoob-Surati

Ki Khuda Ke Masih Ne Kafaara Diya

To Mile Mujhe Zindagi

 

4. Mai Uss Pyaari Saleeb Ka Ruh Vafadaar

Sipaahi Hamesha Zarur

Jab Tak Mera Masih Na Karega Mujhe

Apne Abdi Jalaal Mai Manzur

  प्रभु इस गीत के द्वारा आप सब को आशीष दे